गोरखपुर : मुख्यमंत्री ने घर-घर ‘दस्तक अभियान का किया शुभारम्भ

गोपाल त्रिपाठी 
गोरखपुर। जापानी इंसेफेलाइटिस व अन्य संचारी रोगों से लड़ने व लोगो को जागरूक करने के लिये दस्तक अभियान की शुरुआत प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 33 जागरूकता बैन का हरी झंडी दिखा कर रवाना किया साथ ही तिरंगे बैलून को उड़ाकर अभियान का शुभारम्भ किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले साल के तीन दस्तक अभियानों की सफलता को देखते हुए इस साल के पहले ‘दस्तक अभियान चलाया जा रहा है। ये अभियान 10 से 28 फरवरी तक चलेगा। दस्तक अभियान जिले के साथ-साथ गोरखपुर और बस्ती मण्डल के सातों जिलो मे चलाया जाएगा। साथ ही एमडीए अर्थात मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के तहत स्वास्थ्य विभाग फाइलेरिया से निपटने की पूरी तैयारी कर चुका है।
जिले में 40 लाख से अधिक लोगो को 10 से 14 फरवरी तक घर-घर जाकर फाइलेरिया की दवा खिलायी जाएगी। मुख्य चिकित्सधिकारी डा श्रीकांत तिवारी ने कहाकि इस पांच दिवसीय अभियान के लिए 3786 टीमे बनायी गयीं है। इसके अलावा 25 फरवरी से 8 मार्च तक जे ई टीकाकरण, 10 मार्च से पोलियो की दवा पिलाने का अभीयान शुरू होगा जो 18 मार्च तक चलेगा। स्वछता के लिये रोगों से बचाव के लिए जेई के रोकथाम के लिए 15 मई में 15 जून तक व 1 जुलाई से लेकर 31 जुलाई तक टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा, गत वर्ष भी अभियान चलाया गया था जिसका परिणाम बेहतर रहा है।
दस्तक अभियान में आशा गांव के हर घर मे जाकर दरवाजा खटखटा कर लोगों को जेई व संचारी रोगों से बचाव के उपाय बताएंगी। सफाई के बारे मे जागरूक करेंगी। सफाई के बारे मे बताएंगी। दस्तक अभियान के तहत स्कूली बच्चों, शिक्षको और सामाजिक संगठनो के सहयोग से जागरूकता रैली भी निकाली जाती हैं। संचारी रोगों की परिधि मे छह बीमारियाँ मलेरिया, फ़ाइलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया, जापानी इन्सेफ़्लाइटिस और कालाजार हैं। इसमे से जेई से सबसे भीषण रूप मे गोरखपुर मण्डल प्रभावित हो जाता है किन्तु दस्तक से हुई जागरूकता से मौतों मे कमी आई है।
उन्होंने कहाकि फाइलेरिया रोग की दवा स्वास्थ्यकर्मी व आशा, एएनएम, आंगनबाडी कार्यकर्ति्रयाँ द्वारा घर-घर जाकर अपने सामने दवा खिलाई जाएगी।
अगर इस दौरान कोई छूट जाता है तो उसे इसके बाद के मापअप राउंड में कवर किया जाएगा। मापअप राउंड 15 से 23 फरवरी तक चलेगा. स्वास्थ्य टीमें एक दिन में 50 घरों में जाएँगी और घर के सदस्यों को फाइंेपदहीलेरिया की दवा खिलाएँगी। रोगी के घर पर स्टीकर लगाएंगी और फॉलोअप भी करेंगी। दो वर्ष से कम के बच्चों को दवा नहीं खिलाया जाएगा। इसमें12 विभाग होंगे अभियान में शामिल है।
इस अवसर पर स्वास्थ्य सचिव प्रशांत द्विवेदी, कमिश्नर अमित कुमार गुप्ता, डॉ आईवी विश्वकर्मा, डॉ नंदकुमार, डॉ एके पांडेय समेत अनेक अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।

What do you think?

0 points
Upvote Downvote

वर्षा के साथ हुई बर्फबारी से फसलें बर्बाद किसान परेशान

गोरखपुर में किसान रैली से पीएम करेंगे लोकसभा चुनाव का शंखनाद