दरोगा सरोज लालगंज लोकसभा क्षेत्र से हो सकते हैं भाजपा प्रत्याशी 

दो बार सांसद व दो बार विधायक रह चुके हैं दरोगा सरोज

दलितों और पिछड़ों के साथ ही साथ सवर्णों में अपनी पैठ रखते हैं दरोगा सरोज

वरुण सिंह / अरविंद श्रीवास्तव

आजमगढ जनपद की लालगंज लोकसभा सुरक्षित सीट पर भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं में टिकट को लेकर दावेदारी अटकलों का बाजार एवं चर्चाओं का दौर जारी है । भारतीय जनता पार्टी ने अपने टिकटों की घोषणा पूर्वांचल के किसी भी सीट पर नहीं किया है । परंतु हर सीट पर कई उम्मीदवार अपनी दावेदारी पेश करते नजर आ रहे हैं । लालगंज की सीट सुरक्षित होने के बावजूद दावेदारों की कमी  नही है । लालगंज सीट पर भजपा की नीलम  सोनकर मौजूदा सांसद हैं । कांग्रेस पार्टी से पंकज सोनकर के टिकट मिल जाने से सांसद नीलम सोनकर की दावत दावेदारी काफी कमजोर पड़ चुकी है । कारण लोकसभाा क्षेत्र मेें मात्र सोनकर बिरादरी का वोट लगभग पच्चीस हजार के आसपास है । ऐसे में भारतीय जनता पार्टी किसी जिताऊ प्रत्याशी के ऊपर अपना दाव लगाएगी उसमें सबसे सटीक अगर कोई बैठ रहा हैं तो है दो बार सांसद व दो बार विधायक रह चुके दरोगा सरोज ।

 

सांसद नीलम सोनकर का  टिकट कटने की चर्चा है । पार्टी के कार्यकर्ता  कभी चन्दू सरोज  तो कभी सीता चौहान को  टिकट मिलने  की दावेदारी करते नजर आते है ।वही आम जनमानस मेंं एक नाम बड़ी ही सिद्दत के साथ लिया जा रहा है वह नाम है लालगंज लोकसभ सीट से दो बार सपा सांसद रहे दरोगा प्रसाद सरोज जो हमेसा से दलितों पिछडोंं व अगड़ो में अपनी  पैठ रखने वाले नेता के रूप में छवि है ।

सपा पार्टी मेंं दलितो और मोस्ट  बैक्वर्डो की घोर उपेक्षा को देखते हुए दरोगा सरोज भाजपा मेंं  आ गये और 2017 मेंं लालगंज से विधान सभा का चुनाव लड़े और कतिपय मठाधीसो के  कारण  मात्र 1200 मतो से चुनाव हार गये थे ।  लोक सभा चुनाव मेंं गठबंधन का दबाव भाजपा पार्टी महसूस कर रही है ऐसे मेंं पासी समाज का एक लाख साठ हजार मत दरोगा सरोज के प्रत्याशी बनने से मिल सकता है ।

वहीं कांग्रेस पार्टी ने पंकज सोनकर को प्रत्याशी बना कर सोनकर मतों में सेंध लगाने की कोशिश की है । ऐसे में पार्टी वर्तमान सांसद नीलम सोनकर को प्रत्याशी बनाकर हार की जहमत नहीं उठाना चाहेगी ।
वहीं दैनिक भास्कर संवाददाता से वार्ता के दौरान पूर्व सांसद दरोगा सरोज ने स्पष्ट रूप से कहा कि मैं भाजपा का सिपाही हूं भाजपा अगर टिकट देगी तो चुनाव लड़ने के लिए तैयार हूं ।

What do you think?

0 points
Upvote Downvote

क्या मायावती के लोकसभा चुनाव न लड़ने के पीछे ये है वजह ?

अब बिना सिम के वाईफाई से चलेगा आपका मोबाइल, शुरु हई BSNL की WINGS सर्विस