Dainik bhaskar Logo
Friday,19 January 2018
    हिंदी के प्रसिद्द लेखक दूधनाथ सिंह पंचतत्व में विलीन

    हिंदी के प्रसिद्द लेखक दूधनाथ सिंह पंचतत्व में विलीन

    हिंदी के प्रसिद्ध कथाकार, कवि एवं आलोचक दूधनाथ सिंह का आज इलाहाबाद में अंतिम संस्कार कर दिया गया। श्री सिंह के ज्येष्ठ पुत्र ने उनकी चिता को मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार के मौके पर बड़ी संख्या लेखक, शिक्षा शास्त्री, पत्रकार और गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

    Read full story

    ‘‘मौत हो गम हो या खुशी कोई, सब दबे पांव चले आते है’’

    अवध साहित्य संगम संस्था की मासिक गोष्ठी संस्था के कार्यालय पर सम्पन्न हुई जिसकी अध्यक्षता सेवानिवृत्त सहायक अभियन्ता रवि प्रकाश श्रीवास्तव एवं संचालन एहतिशाम वफा ने किया। मुख्य अतिथि लखनऊ से पधारे हरि प्रसाद श्रीवास्तव थे। वाणी वन्दना हरि श्रीवास्तव ने ही की, जग मंे जो भी ज्ञान है माँ शारदे बस तेरा वरदान है माँ शारदे।

    Read full story
    कवि एवं संत साहित्य के विद्वान बलदेव वंशी का निधन

    कवि एवं संत साहित्य के विद्वान बलदेव वंशी का निधन

    हिंदी के वयोवृद्ध कवि एवं संत साहित्य के विद्वान बलदेव वंशी का कल रात दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया।

    Read full story
    मातृ भाषा को जानकर ही हम समाज का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं : प्रो. नन्द किशोर

    मातृ भाषा को जानकर ही हम समाज का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं : प्रो. नन्द किशोर

    पूर्वोत्तर राज्यों में हिन्दी का उन्नयन होना चाहिए। इन राज्यों का दायित्व है कि वे भी हिन्दी भाषा का सम्मान करें तभी भारत को जाना जा सकता है। भारतीय भाषाएं एक दूसरे से शक्ति प्राप्त कर आगे बढ़ी हैं। सिक्किम मंे सात भाषाएं बोली जाती हैं। अपनी मातृ भाषा को जानकर ही हम एक बडे़ समाज का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं। पूर्वोत्तर की बोलियों से कोश का निर्माण किया जाना चाहिए।

    Read full story
    शहीदों की बदौलत मेरा हिन्दुस्तान जिंदा है....

    शहीदों की बदौलत मेरा हिन्दुस्तान जिंदा है....

    अयोध्या की सीमा के पास स्थित गेस्ट हाउस। सोमवार की बेहद ठंड भरी रात। परन्तु यहां वह सब कुछ था जिसने ठंड से सुप्त पड़े रक्त में देशभक्ति की ऊष्मा का संचार कर दिया। कविता तिवारी ने मंच से अपनी रचना के माध्यम से भारत माता की जय का आवाहन क्या किया पूरी दर्शक दीर्घा भारत माता की जय के नारो से गूंज उठी। कमलेश वर्मा ने राम के अस्तित्व को नकारने वालों को राम के साकार स्वरुप का कविता के माध्यम से प्रमाण दिया।

    Read full story
    राष्ट्रभाषा घोषित होगी तभी होगा हिन्दी का विकास: सुदामा सिंह

    राष्ट्रभाषा घोषित होगी तभी होगा हिन्दी का विकास: सुदामा सिंह

    विश्व में हिन्दी प्रचारित प्रसारित तभी होगी जब हिन्दी भारत की राष्ट्रभाषा घोषित होगी, आगामी 10 जनवरी को इस संकल्प के साथ मनाने का निर्णय लें।

    Read full story
    ‘‘रहा किनारे बैठ‘‘ का हुआ विमोचन

    ‘‘रहा किनारे बैठ‘‘ का हुआ विमोचन

    उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षिति ने कहा है कि भारतीय चिन्तन व दर्शन में लेखन एवं सृजन को ब्रहम् कहा गया है। हम सभी के भीतर जब आनन्द की वर्षा होती है तो यह जान लेना चाहिए कि हम ब्रहम् के नजदीक है। यह बात दीक्षित ने विधान भवन में राज्यकर्मचारी साहित्य संस्थान के कार्यक्रम में रवि शंकर पाण्डेय की साहित्यिक कृति ‘‘रहा किनारे बैठ’’ निबन्ध संग्रह के लोकापर्ण करने के दौरान कही।

    Read full story
    गुमनामी बाबा ‘‘ए केस हिस्ट्री’’ पुस्तक का विमोचन

    गुमनामी बाबा ‘‘ए केस हिस्ट्री’’ पुस्तक का विमोचन

    गुप्तारघाट स्थित अयोध्या नगर निगम के नवनिर्वाचित मेयर द्वारा नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की प्रपौत्री श्रीमती जयन्ती बोस रक्षित ने ‘गुमनामी बाबा “ए केस हिस्ट्री“ नामक पुस्तक का विमोचन किया। यह पुस्तक फैजाबाद-अयोध्या क्षेत्र के उन नामी ‘गुमनामी बाबा’ के प्रकरण का विस्तृत वृतान्त है, जिनके बारे में आम अवधारणा है कि वह और कोई नहीं स्वयं नेताजी ही थे।

    Read full story

    प्रभारी सुमित माखेजा ने चार सिन्धी शिक्षकों को किया नियुक्ति

    राष्ट्रीय सिन्धी भाषा विकास परिषद, दिल्ली के सहयोग से फैजाबाद जिले के रामनगर कालोनी में सिन्धी भाषा की चार कक्षायें चलायी जा रही हैं। सुमित माखेजा के प्रभारी बनाये जाने के बाद श्री माखेजा ने चार सिन्धी शिक्षकों की नियुक्ति की है। शिक्षकों में चन्दा माखेजा, अंजली साधवानी, कपिल हासानी व विवेक अमलानी हैं, जो कि रामनगर में ही बचपन प्ले स्कूल, सिन्धु सेवा समिति कार्यालय व अपने निवास पर सिन्धी कक्षायें चल रहे हैं। जिसके साथ-साथ एक सुपरवाइजर सुखदेव साधवानी की भी नियुक्ति की गयी है। श्री माखेजा ने कहा कि भारतीय सिन्धु सभा के इस प्रयास से सिन्धी भाषा संरक्षित की जा सकेगी व सिन्धी शिक्षकों का भी मान सम्मान बढ़ेगा।

    Read full story
    ‘पारस-बेला‘ की रचनाएं वैयक्तिक न होकर सार्वभौमिक वं सार्वदेशिक

    ‘पारस-बेला‘ की रचनाएं वैयक्तिक न होकर सार्वभौमिक वं सार्वदेशिक

    दर्शन शास्त्र के अध्येता डा0 अनिल कुमार पाठक का काव्य-संग्रह ‘पारस बेला‘ माता-पिता को शब्द-शब्द समर्पित है। अध्यवसाय से उपार्जित ज्ञानराशि से परिपूर्ण एवं उत्तम संस्कारों में पले-बढे कवि ने इस कृति में अपने माता-पिता के त्याग, स्नेह, ममत्व का ही वर्णन नहीं किया है, अपितु सम्पूर्ण सृष्टि की सन्तानों को सचेत भी किया है। ‘पारस-बेला‘ की रचनाएं वैयक्तिक न होकर सार्वभौमिक वं सार्वदेशिक हैें, क्योंकि संसार में अगर कोई जीवंत ईश्वरीय सत्ता है तो वह केवल माता-पिता के रूप में ही है।

    Read full story
    राजनीति के साथ पत्रकारिता का भी हुआ पतन: डा. त्रिपाठी

    राजनीति के साथ पत्रकारिता का भी हुआ पतन: डा. त्रिपाठी

    राजनीति के साथ ही पत्रकारिता का भी पतन हुआ है। 20वीं शताब्दी के 50 के दशक में जिसे नई कविता काल कहा गया है उत्तर प्रदेश के बस्ती जनपद में जन्मे सर्वेश्वर दयाल सक्सेना उत्कृष्ट हिन्दी साहित्यकार के रूप में जाने गये। इनकी पहचान कवि, उपन्यासकार, कहानीकार, नाटककार, यात्रा वृतान्त लेखक, निबंधकार और सम्पादक आदि के विभिन्न रूपों में हुई है। यह अपने जमाने के प्रसिद्ध राजनैतिक पत्रिका दिनमान के सम्पादक थे। यह विचार साहित्य साधक डा. रामशंकर त्रिपाठी ने शाने अवध सभागार में पत्रकार वार्ता के दौरान दिया।

    Read full story

    कवियों ने किया बांधा समां

    हिन्दी सभा लालबाग के नरोत्तम सभागार में ‘‘अगहन मासोत्तम गोष्ठी‘‘ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उर्दू व हिन्दी के श्रेष्ठ साहित्य का ‘‘ फरीद बिलग्रामी‘‘जी रहे अध्यक्षता महोली के रचनाकार ‘राजकुमार तिवारी‘ ने की तथा सफल संचालन डा0 कुलदीप नारायन सक्सेना ने किया।

    Read full story
    उत्तराखंड महापरिषद द्वारा  ‘‘साहित्य परिचर्चा’’ का आयोजन

    उत्तराखंड महापरिषद द्वारा ‘‘साहित्य परिचर्चा’’ का आयोजन

    उत्तराखण्ड महापरिषद द्वारा प0 दीन दयाल उपाध्याय जी की जन्म शताब्दी के अवसर पर रविवार शाम ‘‘साहित्य परिचर्चा’’ का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि एवं प्रमुख वक्ता भाजपा के प्रदेश महामंत्री दयाशंकर सिंह व उत्तराखण्ड महापरिषद के अध्यक्ष मोहन सिंह बिष्ट एवं प्रदेश कार्य समिति सदस्य भाजपा चेतन सिंह एवं महापरिषद के महासचिव हरीश चंद्र पंत ने द्वीप प्रज्जवलित कर पं0 दीन दयाल जी के चित्र पर माल्यार्पण किया।

    Read full story

    हिंदी पखवारे के तहत हुई काव्य गोष्ठी

    हिंदी मात्र भाषा नही मातृ भाषा है।हिंदी हमारी भारतीय संस्कृति और मानवीय संचेतना के संस्कार की भाषा है। ये बात हिंदी पखवारे के अंतर्गत नगर के वरिष्ठ समाजसेवी गंगा स्वरूप मिश्र के शंकरगंज आवास पर आयोजित एक काव्य संध्या की अध्यक्षता करते हुए व्यंग्यकार अशोक पुष्प ने अपने उद्बोधन में कही। मुख्य अतिथि अवधी के चर्चित सुकवि अरुण गंवार रहे और संचालन का दायित्व साहित्यकार संदीप सरस ने संभाला। कवि अधिवक्ता रामेंद्र त्रिवेदी ने वाणी वंदना के पश्चात हिंदी अभ्यर्थना की।

    Read full story
    संसार भारती द्वारा हिन्दी दिवस आयोजित

    संसार भारती द्वारा हिन्दी दिवस आयोजित

    श्रीराधाकृष्ण मंदिर रायगंज में हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में संस्कार भारती के तत्वाधान मे एक काव्य गोष्ठी एवं विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप मे सेठ जय नरायन इण्टर कालेज के पूर्व प्रधानाचार्य दिनेशचन्द्र पाण्डेय उपस्थित रहे। अध्यक्षता समाजसेवी रामपाल त्रिपाठी द्वारा की गयी तथा गोष्ठी का सफल संचालन शिक्षक व कवि आनन्द खत्री द्वारा एवं संयोजन सेवानिवृत्त शिक्षक हरिश्चन्द्र गुप्त द्वारा किया गया।

    Read full story

    सीतापुर : केंन्द्रीय विद्यालय में लगी हिंदी पुस्तकों की प्रदर्शनी

    केंद्रीय विद्यालय हिंदी पखवाड़े के अंतर्गत पुस्तकालय में हिंदी पुस्तकों की प्रदर्शनी का शुभारम्भ प्राचार्य सुनील कुमार ने दीप प्रज्जवलित कर किया। इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षक व छात्र उपस्थित रहे।

    Read full story
    पुस्तक समीक्षा :  'लाइफ जियो जान से'

    पुस्तक समीक्षा : 'लाइफ जियो जान से'

    जीवन के सफर के तीन पढ़ावों बचपन, जवानी और बुढ़ापे पर केंद्रित पुस्तक में लेखक पं. हरिओम शर्मा ''हरि'' ने इससे बचने और क्या करे क्या न करें पर अपने विचार दिए हैं। लेखक तर्कों और तरकशों के माध्यम से हमें सोचने पर मजबूर करते हैं कि हमने जो बोया है, उसे एक न एक दिन अवश्य काटना पड़ता है। जीवन में माता पिता और गुरु से बढ़कर कोई नहीं। यदि सादा जीवन उच्च विचार को ध्येय मान कर जीवन जियां जाए तो सफलता आपके कदम चूमती है।

    Read full story

    बाराबंकी : मुशायरे का हुआ आयोजन

    क़स्बे के मोहल्ला मोलवी कटरा स्थित छोटी मीरा शाह रह.अलैह के सालाना उर्स के मौके पर आल इंडिया नातिया मुशायरे का आयोजन किया गया, जिसका उद्घाटन मुशायरे के मुख्य अतिथि व पूर्व चेयरमैन रियाज़ अहमद ने फीता काटकर किया, मुशायरे का शुभारम्भ तिलावते कलाम पाक से किया गया। मुशायरे की अध्यक्षता हुसैन अली व संचालन अकरम जलालपूरी ने किया, इस मौके पर मकामी शायरों के अलावा बाहर से तशरीफ़ लाये शायरों ने अपनी नातो मन्कबद से लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया

    Read full story
    सीतापुर : ''इक्षु स्मारिका'' का जिलाधिकारी ने किया विमोचन

    सीतापुर : ''इक्षु स्मारिका'' का जिलाधिकारी ने किया विमोचन

    सीतापुर : ''इक्षु स्मारिका'' का जिलाधिकारी ने किया विमोचन

    Read full story
    जनकवि गिरीश चन्द्र तिवारी की सातवी पुण्य तिथि ’’गिर्दा स्मृति का आयोजन’’

    जनकवि गिरीश चन्द्र तिवारी की सातवी पुण्य तिथि ’’गिर्दा स्मृति का आयोजन’’

    जनकवि गिरीश चन्द्र तिवारी की सातवी पुण्य तिथि ’’गिर्दा स्मृति का आयोजन’’

    Read full story
    सीतापुर : कवि सम्मेलन में कवियों ने बंधा समां

    सीतापुर : कवि सम्मेलन में कवियों ने बंधा समां

    श्री राम पाल त्रिपाठी जी ने तमाम प्राचीन छंदों को स्वर देकर गोष्टी को गरिमा प्रदान की और शिक्षक हरिश्चंद्र गुप्त,वृंदारकनाथ मिश्र ने अपने विचारात्मक सुझाव व्यक्त किए। प्रभावी कवि अधिवक्ता रामेंद्र त्रिवेदी व अभिनव रंजन मिश्र पूरे रंग में दिखे। देर रात तक चलने वाली सारस्वत काव्य संध्या में भगवत शरण श्रीवास्तव, अशोक पुष्प, सरोज गुप्ता, संदीप सरस, आनंद खत्री, घनश्याम शर्मा, अरुण गंवार, हरीश्चंद्र गुप्त, रामदासगुप्ता, भगत सिंह पांडेय, अरविंद सिंह, दिलीप सिंह, नैमिष सिंह, डॉ शैलेश वीर, रामकुमार सूरत, हरिशंकर मौर्य, श्रीकांत मौर्य, मंगल बिस्वानी, अजय नमन, वृंदारकनाथ मिश्र, अभिनव रंजन मिश्र, रामेंद्र त्रिवेदी, धर्मेंद्र त्रिपाठी, रामदयाल घुरिया, कृष्ण मुरारी खरोंच आदि ने अपने काव्य पाठ और उपस्थित से कार्यक्रम को ऊंचाइयां प्रदान की।

    Read full story
    भक्ति ही है भगवान की प्राप्ति का सरलतम उपाय

    भक्ति ही है भगवान की प्राप्ति का सरलतम उपाय

    श्री कृष्ण जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में कठिना तट स्थित श्री राधा कृष्ण धाम प्रज्ञानं सत्संग आश्रम में गुरुवार को पांच दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा का शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ कानपुर से आए संत राजेश दास जी ने दीप प्रज्वलन कर किया। श्रीमद् भागवत कथा सुनाते हुए प्रज्ञानंद सत्संग आश्रम के महंत स्वामी विज्ञानानंद सरस्वती जी ने भक्ति के बारे में बताते हुए कहा कि भगवान में प्रेम होना ही भक्ति है।

    Read full story
    इला भट्ट की पुस्तक ‘अनुबंध’ का शुक्रवार को आईजीएनसीए में होगा लोकार्पण

    इला भट्ट की पुस्तक ‘अनुबंध’ का शुक्रवार को आईजीएनसीए में होगा लोकार्पण

    गांधीवादी विचारक इला भट्ट की पुस्तक ‘अनुबंध सौ मील के दायरे में’ का शुक्रवार को लोकार्पण किया जाएगा। इसका विमोचन सिक्किम के पूर्व राज्यपाल बी पी सिंह करेंगे। कार्यक्रम इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए) के प्रांगण में आयोजित किया जाएगा।

    Read full story
    गुफ़्तगू समारोह में 22 किताबों व महिला विशेषांक-2 का होगा विमोचन

    गुफ़्तगू समारोह में 22 किताबों व महिला विशेषांक-2 का होगा विमोचन

    विशिष्ट अतिथि के तौर पर अनिल तिवारी, डॉ. रोहित चौबे, अखिलेश सिंह, सरदार अजीत सिंह, सरदार जसप्रीत सिंह मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम का उद्घाटन हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष उमेश नारायण शर्मा एवं संचालन डॉ. पीयूष दीक्षित करेंगे।

    Read full story
    एसआईटी में पुस्तक मेला शुरू

    एसआईटी में पुस्तक मेला शुरू

    उन्होंने कहा कि इस चौथे वार्षिक पुस्तक मेले में कार्यशाला,आर्ट प्रदर्शनी,प्रोजेक्ट प्रदर्शनी ,प्रश्नोत्तरी,खान -पान के स्टॉल के साथ साथ रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी रंग जामेगा। उन्होंने कहा 18 फरवरी को समापन समारोह के दिन उत्तर बंगाल से इस वर्ष पद्मश्री आवर्ड से नामजे गाये कारीमुल हक़ को सम्मानित किया जायेगा। साथ ही विभिन्नन परीक्षा बोर्ड के इस वर्ष हुए टॉपरों को भी सम्मानित किया जायेगा।

    Read full story

    हिंदी की समृद्वि के लिए अंग्रेजियत को न कहना होगा

    च्चारण और लेखन शैली की वजह से सम्पूर्ण विष्व में निराली और अलग है, क्योंकि इसका व्याकरण सामान्यतः अन्य भाषाओं से सरल, सुबोध और धाराप्रवाह है, इसमें उच्चारण और लेखन में अंतर बिल्कुल न के बराबर प्रतीतमान होता है। जो इस भाषा को अन्य भाषाओं से सर्वत्र श्रेष्ठ और भिन्न श्रेणी प्रदान करता है।

    Read full story
Top